Sachin ने बताया- डेब्यू मैच में रन नहीं बनाए तो लगा किसी लायक नहीं, पॉजिटिव लोगों की वजह से आज यहां हूं

सचिन तेंडुलकर कहते हैं कि निगेटिव और निगेटिव मिलकर पॉजिटिव हो जाएं, ऐसा सिर्फ गणित में होता है। जीवन में दो निगेटिव मिलकर और भी ज्यादा निगेटिविटी फैला देते हैं। सही मायनों में निगेटिविटी से मेरा पहला वास्ता Pakistan में डेब्यू मैच के दौरान पड़ा। इस टेस्ट में जल्दी आउट हो जाने की वजह से मुझे नकारात्मक भावनाओं ने घेर लिया। मुझे खुद की क्षमताओं पर संदेह होने लगा था। बार-बार यह ख्याल आने लगा कि मैं अंतरराष्ट्रीय स्तर के लायक हूं भी या नहीं। लेकिन, आसपास के पॉजिटिव लोगों के सहयोग से मैं निगेटिव विचारों से बाहर निकल आया। इसी दौरान मुझे धैर्य के साथ कठिन मेहनत करने की सीख मिली। निगेटिविटी हमेशा जल्दी हावी होती है। चुनौती यही है कि इसे करीब न भटकने दें। Dainik Bhaskar ‘नो निगेटिव मंडे’ की थीम पर डटा हुआ है और चार साल पूरे कर बाउंड्री लगाई है। यह बेहद सराहनीय है।

‘शॉर्टकट टिकाऊ नहीं होता’ : सचिन के मुताबिक, “कई बार ऐसी परिस्थितियां बनती हैं, जब लोग अपनी फिलॉसॉफी को छोड़ने या समझौता करने के लिए मजबूर हो जाते हैं। लेकिन, यही वे मौके होते हैं जब चरित्र की परीक्षा होती है। इसी संदर्भ से जुड़ी एक बात मुझे याद आती है। यह मेरे स्कूली दिनों की बात है। एक बार स्कोरर ने मेरे स्कोर में 6 रन अतिरिक्त जोड़ दिए। इस बात पर स्वर्गीय आचरेकर सर मुझसे काफी निराश हुए। उन्होंने कहा- मुझे फर्क नहीं पड़ता कि तुमने स्काेर किया या नहीं। लेकिन, शार्टकट लेने के लिए कभी प्रभावित मत होना। आज झटपट सफलता पाने के माहौल में शार्टकट लेने के प्रलोभन आकर्षक हो सकते हैं, लेकिन ये टिकाऊ नहीं होते।”

‘सही चीजों पर फोकस करें’ : सचिन ने बताया कि परिवार, दोस्त और मेरा स्टाफ मेरा सपोर्ट सिस्टम है। जब दुनिया मेरी आखिरी पारी पर बात कर रही होती थी, तब मेरा सपोर्ट सिस्टम और मैं अगली इनिंग पर फोकस कर रहे होते थे। इसलिए हमें हमेशा सही चीजों पर फोकस करना चाहिए। सकारात्मक रहना चाहिए।

गणतंत्र दिवस के अंक में सचिन होंगे गेस्ट एडिटर : भास्कर हमेशा कुछ नया और अलग करने की कोशिश करता रहा है। इसी कड़ी में 26 जनवरी, गणतंत्र दिवस पर सचिन तेंडुलकर भास्कर के गेस्ट एडिटर होंगे। सचिन की इच्छा है कि भारत खेल प्रेमी देश से खेलने वाला देश बने। इसलिए भास्कर विशेष कॉन्टेस्ट शुरू कर रहा है। अगर आपने खेल से जुड़े इन चार क्षेत्रों में लीक से हटकर कोई काम किया हो या आपका अनूठा अनुभव हो या आपके पास काेई नया आइडिया हो तो हमें भेज सकते हैं। ये क्षेत्र हैं- 1. बच्चों को खेलने की पूरी आजादी। 2. खेल के जरिए सामाजिक एकरूपता। 3. सेहत और फिटनेस के लिए खेल। 4. खेल से महिला सशक्तिकरण।

 

©Dainik Bhaskar

No Replies to "Sachin ने बताया- डेब्यू मैच में रन नहीं बनाए तो लगा किसी लायक नहीं, पॉजिटिव लोगों की वजह से आज यहां हूं"